A- A A+
Last Updated : Mar 4 2021 8:40PM     Screen Reader Access
News Highlights
PM Modi says, India is honoured to be at the forefront of popularising Millets; India sponsored UN resolution on International Year of Millets 2023 adopted by consensus in UNGA            EAM S Jaishankar says, shift in fulcrum of global economic growth towards Asia is creating unprecedented opportunities for connectivity in region            More than 1 crore 66 lakh 16 thousand doses of COVID-19 vaccines administered to the beneficiaries so far            Bangladesh is central to India’s neighbourhood first Policy- EAM Dr. S. Jaishankar            UN Special Envoy warns of strong measures against Myanmar for coup; At least 38 protesters killed in a single day           

Text Bulletins Details


दोपहर समाचार

1430 HRS
23.01.2021
मुख्य समाचार :-

  • प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी नेताजी सुभाष चंद्र बोस की 125वीं जयंती के अवसर पर कोलकाता में आयोजित पराक्रम दिवस के उद्घाटन समारोह को संबोधित करेंगे।

  • असम के शिवसागर में प्रधानमंत्री ने एक लाख से अधिक भूमिहीन मूल निवासियों को जमीन के पट्टे सौंपे।

  • प्रधानमंत्री ने कहा - असम का तेजी से और चहुंमुखी विकास सरकार के लिए अत्‍यधिक महत्‍वपूर्ण है।

  • गृह मंत्री अमित शाह ने शिलंग में पूर्वोत्‍तर परिषद की 69वीं पूर्ण बैठक का उद्घाटन किया।

  • देश में 13 लाख 90 हजार से अधिक लोगों को कोविड का टीका लगाया गया और कोविड से स्‍वस्‍थ होने की दर बढकर 96 दशमलव आठ दो प्रतिशत हुई।

------------------------

कोविड महामारी के खिलाफ देश एकजुट होकर लड़ रहा है। आप भी हमारे साथ सुरक्षा और बचाव के तीन आसान एहतियाती उपायों का संकल्‍प लें।

  • मास्‍क पहनें
  • दो गज दूरी, है जरूरी।
  • सुरक्षित दूरी बनाए रखें।
  • हाथ और मुंह साफ रखें।

------------------------

कृतज्ञ राष्‍ट्र आज महान स्‍वाधीनता सेनानी नेताजी सुभाष चंद्र बोस की जयंती को पराक्रम दिवस के रूप में मना रहा है। सुभाष चंद्र बोस का जन्‍म आज ही के दिन 1897 में ओडिसा के कटक में हुआ था।


प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी आज नेताजी बोस की 125वीं जयंती के अवसर पर पश्चिम बंगाल के कोलकाता में पराक्रम दिवस का शुभारंभ करेंगे।

------------------------

प्रधानमंत्री कोलकाता पहुंचने के बाद, महान स्‍वाधीनता सेनानी को श्रद्धांजलि अर्पित करने के लिए दक्षिण कोलकाता में नेताजी भवन जाएंगे।


प्रधानमंत्री आज दोपहर कोलकाता पहुंचने के बाद, नेशनल लाइब्रेरी में कलाकार-दीर्घा का अवलोकन करेंगे। इसके बाद वे नेताजी पर अंतर्राष्‍ट्रीय सेमिनार को संबोधित करेंगे। इस वर्चुअल सेमिनार में अमरीका, जर्मनी, म्‍यामां, थाईलैंड और बांग्‍लादेश के अंतर्राष्‍ट्रीय ख्‍याति प्राप्‍त विद्वान और शोधार्थी हिस्‍सा लेंगे।


श्री मोदी स्‍थायी प्रदर्शनी और प्रोजैक्‍ट मैपिंग शो का उद्घाटन भी करेंगे। इस दौरान 1926 से 1936 के बीच लिखे गए सुभाष चन्‍द्र बोस के पत्रों के संकलन का विमोचन भी किया जायेगा।


आजाद हिंद फौज -आईएनए से जुड़े लोगों और स्‍वाधीनता सेनानियों को भी सम्‍मानित किया जायेगा। इस कार्यक्रम में राज्य के राज्यपाल और मुख्यमंत्री के भी शामिल होने की संभावना है। नेताजी पर आधारित सांस्‍कृतिक कार्यक्रम 'आमरा नूतोन जौबोनेरी दूत' का आयोजन किया जाएगा।

------------------------

नेताजी की 125वीं जयंती के लिए आज से वर्षभर के आयोजन शुरू हो रहे है। सरकार ने हर वर्ष 23 जनवरी को पराक्रम दिवस के रूप में मनाने का निर्णय लिया है। नेताजी की जयंती के लिए प्रधानमंत्री की अध्‍यक्षता में उच्‍चस्‍तरीय समिति भी गठित की गई है।


महान स्‍वाधीनता सेनानी सुभाष चंद्र बोस ने अंग्रेजों का शासन समाप्‍त करने के लिए स्‍वतंत्रता संग्राम के दौरान देशवासियों को एकजुट करने में प्रेरक भूमिका निभाई। 


नेताजी ने ही लोगों को मातृभूमि की रक्षा में बलिदान के लिए सदैव तैयार रहने का मंत्र दिया था 'तुम मुझे खून दो, मैं तुम्‍हें आजादी दूंगा'

------------------------

नेताजी सुभाष चन्‍द्र बोस ने स्‍वतंत्रता संग्राम के दौरान ब्रिटिश राज के खिलाफ पूरे देश को एकजुट करने की जरूरत पर बल दिया था। उन्‍होंने देशवासियों से अपील की थी कि वे मातृभूमि के प्रति अपने कर्तव्‍यों का निर्वहन करें।

------------------------

केन्‍द्रीय संस्‍कृति मंत्रालय ने नेताजी पर वर्षभर के आयोजनों के लिए कई गतिविधियों की योजना बनाई है। शिक्षा मंत्रालय ने देश के पांच विश्‍वविद्यालयों में नेताजी से संबंधित पीठ स्‍थापित करने, ऑनलाइन व्‍याख्‍यान और वेबिनार आयोजि‍त करने की योजना तैयार की है। सूचना और प्रसारण मंत्रालय का राष्‍ट्रीय फिल्‍म विकास निगम नेताजी के स्‍वप्‍न को साकार करने संबंधी लघु फिल्‍म प्रतियोगिता का आयोजन करेगा।


दूरदर्शन और आकाशवाणी से भी नेताजी के जीवन तथा कालखंड पर चर्चाओं, वृत्‍तचित्रों और अन्‍य कार्यक्रमों का प्रसारण होगा। रेल मंत्रालय ने हावड़ा-कालका मेल का नाम बदलकर नेताजी एक्‍सप्रेस कर दिया है।

------------------------

ओडिशा में आज नेताजी सुभाष चंद्र बोस की जयंती को पराक्रम दिवस के रूप में मनाया जा  रहा है। नेताजी की जयंती पर राज्य भर में कई कार्यक्रम आयोजित किए जा रहे हैं। वहीं उनकी जन्म स्थली कटक में देशभक्ति पर आधारित कई कार्यक्रम आयोजित कर महान नेता को श्रद्धांजलि दी जा रही है।

------------------------

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने नेताजी सुभाष चंद्र बोस की 125वीं जयन्ती के अवसर पर आज राष्ट्रपति भवन में उनके चित्र का अनावरण किया। इसके साथ ही नेताजी की जयन्ती साल भर मनाये जाने के कार्यक्रमों की भी शुरूआत हो गई है।

------------------------

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, उपराष्‍ट्रपति एम.वेंकैया नायडू और प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी ने आज नेताजी सुभाष चंद्र बोस को श्रद्धांजलि अर्पित की। श्री कोविंद ने कहा कि नेताजी के अदम्य साहस और हिम्मत को सम्मान देने के लिए ही आज के दिन को पराक्रम दिवस के रूप में मनाया जा रहा है। उन्होंने कहा कि नेताजी ने अपने असंख्य समर्थकों में राष्ट्रवाद की भावना जगाई।


श्री कोविंद ने कहा कि नेताजी ऐसे सबसे लोकप्रिय नेता थे जिन्होंने भारत की आजादी के संग्राम में अभूतपूर्व योगदान दिया। राष्ट्रपति ने कहा कि नेताजी की देशभक्ति और बलिदान हमें सदैव प्रेरित करता रहेगा। उन्होंने कहा कि हम नेताजी की स्वतंत्रता की भावना को और मजबूत  करने के लिए प्रतिबद्ध हैं।


उपराष्ट्रपति ने महान स्वतंत्रता सेनानी और दूरदर्शी नेता सुभाष चंद्र बोस को श्रद्धांजलि दी है। श्री नायडू ने कहा कि नेताजी ने साहस, दृढ़ निश्चय और बलिदान का आदर्श प्रस्तुत किया और भारत माता को ब्रिटिश शासन से मुक्ति दिलाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभायी। उन्होंने कहा कि राष्ट्र स्वतंत्रता संग्राम में नेताजी के बलिदान के प्रति सदैव आभारी रहेगा।


प्रधानमंत्री ने भी भारत माता के महान सपूत नेताजी सुभाष चंद्र बोस को श्रद्धांजलि दी है। श्री मोदी ने कहा है कि कृतज्ञ राष्ट्र देश की आजादी में नेताजी के बलिदान और समर्पण को हमेशा याद रखेगा।

------------------------

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने नेताजी सुभाष चंद्र बोस की 125वीं जयंती पर उन्हें नमन करते हुए ब्रिटिश राज के खिलाफ लड़ाई में उनके योगदान को याद किया। श्री सिंह ने ट्वीट में कहा है कि नेताजी देश के महानायकों में से एक थे जिन्होंने आजादी के लिए सर्वोच्च बलिदान दिया। 


सर्वोच्‍च बलिदान के लिए यह राष्‍ट्र आज और आने वाली सभी पीढियां हमेशा उनकी ऋणी रहेंगी। मैं मानता हूं कि नेताजी का बलिदान, उनका जीवन इतिहास के पन्‍नों तक ही सीमित नहीं रहना चाहिए। यह हम सभी के लिए विशेष रूप से युवाओं के लिए एक बहुत बड़ा प्रेरणा स्रोत है। इसलिए पिछले दिनों हमारे प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी ने यह निर्णय लिया है कि अब नेताजी सुभाष चंद्र बोस की जयंती को पूरे देश में पराक्रम दिवस के रूप में मनाया जाएगा। हर भारतवासी को नेताजी के जीवन से राष्‍ट्रीय स्‍वाभिमान की जो प्रेरणा मिलती है वो अपने आप में अद्भुत है, अनमोल है।

------------------------

उत्‍तर प्रदेश के मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ ने भी नेता जी सुभाष चंद्र बोस को श्रद्धांजलि दी। लखनऊ में आयोजित कार्यक्रम में मुख्‍यमंत्री ने नेताजी की प्रतिमा पर पुष्‍पांजलि अर्पित की। उन्‍होंने लोगों से पराक्रम दिवस पर नेताजी के बताए रास्‍ते पर चलने की अपील की।

------------------------

आंध्र प्रदेश के राज्यपाल बिस्वभूषण हरिचंदन ने राजभवन में आयोजित नेताजी सुभाष चंद्र बोस की 125वीं जयंती पर उनके चित्र पर पुष्प अर्पित किए।


स्वतंत्रता सेनानियों के बलिदानों को स्‍मरण करते हुए, राज्यपाल ने कहा कि भारत हमारे स्‍वतंत्रता सेनानियों के त्‍याग और बलिदान के कारण ही आज हम सैन्य और आर्थिक रूप से स्वतंत्र, समृद्ध राष्ट्र और विश्व में एक बड़ी शक्ति है।

------------------------

त्रिपुरा में नेताजी सुभाष चंद्र बोस की 125वीं जयंती मनाई गई। राज्‍य में प्रत्‍येक वर्ष राष्ट्रयीता पर आधारित विभिन्न कार्यक्रमों के तहत स्कूली छात्रों द्वारा एक विशाल पारंपरिक हर्षोल्‍लास के साथ सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन किया जाता है।

------------------------

प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी ने एक दिन के असम दौरे पर आज शिवसागर में जेरेंगा पाथर में एक लाख छह हजार भूमि पट्टों और आवंटन प्रमाण-पत्रों का वितरण किया। इस अवसर पर श्री मोदी ने कहा कि राज्‍य के मूल निवासियों को पट्टा और आवंटन प्रमाण-पत्र जारी करने को सर्वोच्‍च प्रा‍थमिकता दी गई है,


असम की हमारी सरकार ने आपके जीवन की बहुत बड़ी चिंता दूर करने का काम किया है। एक लाख से ज्‍यादा मूल निवासी परिवारों को भूमि के स्‍वामित्‍व का अधिकार मिलने से आपके जीवन की एक बहुत बड़ी चिंता अब दूर हो गई है।


इससे पहले आज सुबह शिवसागर पहुंचने पर प्रधानमंत्री का पारंपरिक स्‍वागत किया गया। श्री मोदी ने कहा कि जमीन के पट्टे मिलने से लोगों की लंबे समय से चली आ रही मांग पूरी हुई हैं।


जमीन पर कानूनी हक जल्‍द से जल्‍द मिल सके। जमीन का पट्टा मिलने से मूल निवासियों की लंबी मांग तो पूरी हुई है, इससे लाखों लोगों का जीवन स्‍तर बेहतर होने का रास्‍ता भी बना है। अब इनको केन्‍द्र और राज्‍य सरकार की दूसरी अनेक योजनाओं का लाभ मिलना भी सुनिश्चित हुआ है। जिनसे हमारे ये साथी वंचित थे। अब ये साथी भी असम के उन लाखों किसान परिवारों में शामिल हो जाएंगे, जिनको पीएम किसान सम्‍मान निधि के तहत हजारों रूपयों की मदद सीधे बैंक खातों में भेजी जा रही है। अब इनको भी किसान क्रेडिट कार्ड, फसल बीमा योजना और किसानों के लिए लागू दूसरी योजनाओं का लाभ मिल सकेगा।


प्रधानमंत्री ने कहा कि भूमि के अधिकार मिलने से क्षेत्र के स्‍थानीय लोगों में सुरक्षा की भावना मजबूत होगी।


आज के दिन स्‍वाभिमान, स्‍वाधीनता और सुरक्षा के तीनों प्रतीकों का भी एक प्रकार से समागम हो रहा है। पहला आज असम की मिट्टी से प्‍यार करने वाले मूल निवासियों के अपनी जमीन से जुड़ाव को कानूनी सरंक्षण दिया गया। दूसरा ये काम ऐतिहासिक शिव सागर में चेरिंगा पठार की धरती पर हो रहा है।


प्रधानमंत्री ने महान स्‍वतंत्रता सेनानी नेताजी सुभाष चंद्र बोस को भी याद किया।


भाईयों और बहनों आज ही देश हम सबके प्रिय, हम सबके श्रद्धेय नेताजी सुभाष चंद्र बोस की 125वीं जन्‍म जयंती मना रहा है। देश ने अब तय किया है इस दिन की पहचान अब पराक्रम दिवस के रूप में होगी। मां भारती के स्‍वाभिमान और स्‍वतंत्रता के लिए नेताजी का स्‍मरण आज भी हमें प्रेरणा देता है। आज पराक्रम दिवस पर पूरे देश में अनेक कार्यक्रम भी शुरू हो रहे हैं। इसलिए एक तरह से आज का दिन उम्‍मीदों के पूरा होने के साथ ही हमारे राष्‍ट्रीय संकल्‍पों की सिद्ध‍ि के लिए प्रेरणा लेने का भी अवसर है।


श्री मोदी ने कहा कि राज्‍य के मूल निवासियों के हितों की रक्षा के लिए नई समग्र भूमि नीति बनाई गई है।


आजादी के इतने वर्षों बाद भी असम में लाखों ऐसे परिवार रहे जिन्‍हें किसी न किसी वजह से अपनी जमीन पर कानूनी अधिकार नहीं मिल पाया। इस वजह से विशेष तौर पर आदिवासी क्षेत्रों की एक बहुत बड़ी आबादी भूमिहीन रह गई। उनकी आजीविका पर लगातार संकट बना रहा। असम में जब हमारी सरकार बनी तो उस समय भी यहां करीब-करीब छह लाख मूल निवासी परिवार ऐसे थे, जिनके पास जमीन के कानूनी कागज नहीं। सर्वानंद सोनोवाल जी उनके नेतृत्‍व में यहां की सरकार ने आपकी इस चिंता को दूर करने के लिए गंभीरता के साथ काम किया।


प्रधानमंत्री ने कहा कि असम का तीव्र और चहुंमुखी विकास बहुत महत्‍वपूर्ण हैं।


आत्‍मनिर्भर भारत के लिए नार्थ ईस्‍ट का तेज विकास, असम का तेज विकास बहुत ही आवश्‍यक है। आत्‍मनिर्भर असम का रास्‍ता असम के लोगों के आत्‍मविश्‍वास से होकर गुजरता है और आत्‍मविश्‍वास तभी बढ़ता है जब घर, परिवार में भी सुविधाएं मिलती हैं और राज्‍य के अंदर इंफ्रास्‍ट्रक्‍चर भी सुधरता है। बीते सालों में इन दोनों मोर्चों पर असम में अभूतपूर्व काम किया गया है। असम में लगभग पौने दो करोड़ गरीबों के जन-धन बैंक खाते खोले गए। इन्‍हीं खातों के कारण कोरोना के समय में भी असम के हजारों बहनों और लाखों किसानों के बैंक खातें में सीधी मदद भेजना संभव हो पाया है।


श्री मोदी ने कहा कि सबको साथ लेकर चलने की सरकार की नीति से क्षेत्र में शांति और प्रगति का मार्ग प्रशस्‍त हुआ है।


साथियो असम के हर क्षेत्र की, हर जनजाति को साथ लेकर चलने की इसी नीति से आज असम शांति और प्रगति के मार्ग पर चल पड़ा है। ऐतिहासिक बोडो समझौते से बोडोलैंड टेरिटोरियल काउंसिल के पहले चुनाव हुए हैं। मुझे विश्‍वास है कि अब बोडोलैंड टेरिटोरियल काउंसिल विकास और विश्‍वास के नए प्रतिमान स्‍थापित करेगी।


प्रधानमंत्री ने कहा कि उज्‍ज्‍वला योजना सभी महिलाओं के लिए अत्‍यधिक लाभदायक सिद्ध हुई है।


असम की बहनों, बेटियों को बहुत बड़ा लाभ उज्‍जवला योजना से भी हुआ है। आज असम की करीब 35 लाख गरीब बहनों की रसोई में उज्‍जवला का गैस कनेक्‍शन है। इसमें भी लगभग चार लाख परिवार एससी और एसटी वर्ग के हैं। 2014 में जब हमारी सरकार केन्‍द्र में बनी, तब असम में एलपीजी कवरेज सिर्फ 40 पर्सेंट ही थी। अब उज्‍जवला की वजह से असम में एलपीजी कवरेज बढ़कर करीब-करीब 99 पर्सेंट हो गया है।


श्री मोदी ने कहा कि सडक संपर्क में सुधार से असम में विकास को और तेजी मिलेगी।


बीते सालों में असम के गांवों में करीब ग्‍यारह हजार किलोमीटर सड़कें बनाई गई हैं। डॉ भूपेन्‍द्र हजारिका सेतु हो, बोगीबिल ब्रिज हो, सरायघाट ब्रिज हो ऐसे अनेक ब्रिज जो बन चुके हैं या बन रहे हैं इनसे असम की कनेक्टिविटी सशक्‍त हुई है। अब नार्थ ईस्‍ट और असम के लोगों को आने-जाने के लिए लंबे मार्ग से और जीवन को खतरे में डालने की मजबूरी से मुक्ति मिल गई। इसके अलावा जलमार्गों से बांग्‍लादेश, नेपाल, भूटान और म्‍यामांर के साथ कनेक्टिविटी पर भी फोकस किया जा रहा है।


प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी ने कहा कि रेल और विमान संपर्क सुविधा का विस्‍तार भी सरकार की प्राथमिकता है।


असम में जैसे-जैसे रेल और एयर कनेक्टिविटी का दायरा बढ रहा है, लॉजिस्टिक से जुडी सुविधाएं बेहतर हो रही है वैसे-वैसे यहां उद्योग और रोजगार की नई संभावनाए बन रही है। लोकप्रिय गोपीनाथ बर्दोलॉय इंटरनेशनल एयरपोर्ट में आधुनिक टर्मिनल और कस्‍टम कलियरेंस सेंटर का निर्माण हो, कोकराझार में रूकसी एयरपोर्ट का आधुनिकीकरण हो, बोंगई गांव में मल्‍टी मोडल लॉजिस्टिक हब का निर्माण हो। ऐसी सुविधाओं से ही असम में औद्योगिक विकास को नया बल मिलने वाला है।


श्री मोदी ने राज्‍य के लोगों से कोविड टीकाकरण अभियान में बढचढकर हिस्‍सा लेने की अपील की।


मुझे विश्‍वास है कि असम अब टीकाकरण के अभियान को भी सफलता के साथ आगे बढ़ाएगा। मेरा असम वासियों से भी आग्रह है कि कोरोना टीकाकरण के लिए जिसकी बारी आए वो टीके जरूर लगवाएं और ये भी याद रखे कि टीकें की एक डोज नहीं, दो डोज लगनी जरूरी है। पूरी दुनिया में भारत में बने टीके की डिमांड हो रही है। भारत में भी लाखों लोग अब तक टीका लगा चुके हैं। हमें टीका भी लगवाना है और सावधानी भी जारी रखनी है।


प्रधानमंत्री ने कहा कि देश की अर्थव्‍यवस्‍था के विकास में असम की भूमिका बहुत महत्‍वपूर्ण है।


आज जब देश गैस बेस इक्‍नोमी की तरफ तेजी से आगे बढ रहा है तो असम भी इस अभियान का एक अहम साझीदार है। असम में तेल और गैस से जुडे इन्‍फ्रास्‍ट्रक्‍चर पर बीते वर्षों में चालीस हजार करोड रूपए से अधिक का निवेश किया गया है। गुवाहाटी, बरोनी गैस पाइप लाइन से नार्थ ईस्‍ट और पूर्वी भारत की गैस कनेक्टिविटी मजबूत होने वाली है और असम में रोजगार के नए अवसर बनने वाले हैं। नोमालीगढ रिफाइनरी का विस्‍तारीकरण करने के साथ-साथ वहां अब बायो- रिफाइनरी की सुविधा भी जोडी गई है।


श्री मोदी ने कहा कि आयुष्‍मान भारत योजना से असम की जनता को मुफ्त इलाज की सुविधा मिल रही है।


आज असम की लगभग चालीस प्रतिशत आबादी आयुष्‍मान भारत की लाभार्थी है, जिसमें से लगभग डेढ लाख साथियों को मुफ्त इलाज भी मिल चुका है । बीते छह साल में असम में टायलेट्स की कवरेज 38 प्रतिशत से बढ़कर शत-प्रतिशत हो चुकी है। पांच साल पहले तक असम के पचास प्रतिशत से भी कम घरों तक बिजली पहुंची थी जो अब लगभग सौ प्रतिशत तक पहुंच चुकी है। जल जीवन मिशन के तहत बीते डेढ साल में असम में ढाई लाख से ज्‍यादा घरों में पानी का कनेक्‍शन दिया है।  केन्‍द्र और राज्‍य सरकार का डबल इंजन तीन-चार वर्षों में असम के हर घर तक पाइप से जल पहुंचाने के लिए काम कर रहा है।

------------------------

असम के मुख्‍यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल ने कहा कि प्रधानमंत्री असम और यहां की जनता के सबसे बडे हितैषी हैं। श्री सोनोवाल ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी की सहायता के कारण ही राज्‍य और पूर्वोत्‍तर क्षेत्र का विकास हो रहा है।


माननीय मोदी जी मैं आपको असम की जनता की तरफ से हृदय से आभार व्‍यक्‍त करना चाहता हूं। आज असम का जो विकास हो रहा है, उत्‍तर पूर्व प्रदेश का जो विकास हो रहा है इसके पीछे आपका आशीर्वाद और सहयोग है। आपने असम और उत्‍तर-पूर्व को होसला और हिम्‍मत दिया, साहस दिया, सहयोग दिया, जिसकी वजह से आज हमने अपना पहचान देश के अंदर बनाने में सफल हुए। 


राज्‍य के मंत्री हेमंत बिस्‍व सरमा ने कहा कि केंद्र सरकार असम और पूर्वोत्‍तर क्षेत्र पर पूरा ध्‍यान दे रही है और पिछले छह वर्ष में क्षेत्र में अभूतपूर्व प्रगति हुई है। आर्थिक वृद्धि और समावेशी विकास के मामले में क्षेत्र को दिशा देने के लिए उन्‍होंने प्रधानमंत्री को धन्‍यवाद दिया।

------------------------

गृहमंत्री अमित शाह आज सुबह मेघालय के शिलंग पहुंचे। राज्‍य के मुख्‍यमंत्री कोनरेड के संगमा और  अन्‍य पदाधिकारियों ने उनका स्‍वागत किया। इस अवसर पर  गृहमंत्री ने पूर्वोंत्‍तर परिषद की 69वीं पूर्ण बैठक की अध्‍यक्षता की। बैठक में पूर्वोत्‍तर क्षेत्र विकास मंत्री डॉ0 जितेन्‍द्र सिंह और पूर्वोत्‍तर परिषद के सदस्‍य के रूप में पूर्वोत्‍तर राज्‍यों के राज्‍यपाल और मुख्‍यमंत्री हिस्‍सा ले रहे हैं।


दो दिन की बैठक में पूर्वोत्‍तर क्षेत्र विकास मंत्रालय, पूर्वोत्‍तर परिषद, राज्‍य सरकारों और केन्‍द्र के चुनिंदा मंत्रालयों की ओर से कई विकास संबंधी पहल तथा योजनाओं का ब्‍योरा भी प्रस्‍तुत किया जाएगा। गृहमंत्री अमित शाह ने नेताजी सुभाषचंद्र बोस को श्रद्धांजलि अर्पित की। 


सुभाष बाबू एक ओजस्‍वी विद्यार्थी, जन्‍मजात देशभक्‍त, कुशल प्रशासक, कुशल संगठक और सबसे संघर्षशील नेता थे। उन्‍होंने आजाद हिंद फौज की स्‍थापना की। तब देश भर के युवाओं को आशा बंधी थी कि कुछ ही समय में देश आजाद हो जाएगा। आज ये राष्‍ट्र उनके प्रति कृतज्ञता व्‍यक्‍त करता है, आने वाले दिनों में लाखों बच्‍चे इनसे प्रेरणा लेकर देश के विकास के लिए और देश को आत्‍मनिर्भर बनाने के लिए अपना योगदान देते रहे।

------------------------

देश में अब तक 13 लाख 90 हजार 592 लोगों को कोविड वैक्‍सीन दी जा चुकी है। स्‍वास्‍थ्‍य और परिवार कल्‍याण मंत्रालय के अधिकारी ने बताया कि कल 3 लाख 47 हजार से अधिक लोगों को कोविड टीके लगाये गए। कर्नाटक में सबसे अधिक एक लाख 84 हजार से ज्‍यादा लोगों को वैक्‍सीन दी गई। इसके बाद आंध्र प्रदेश, ओडिसा, उत्‍तर प्रदेश और तेलंगाना का स्‍थान है।


इस बीच, देश में कोविड से ठीक होने की दर 96 दशमलव आठ-दो प्रतिशत हो गई है। कल 17 हजार से अधिक संक्रमित व्‍यक्ति ठीक हुए। अब तक एक करोड़ तीन लाख से अधिक रोगी ठीक हो चुके हैं। इस समय देश में एक लाख 85 हजार 662 मरीजों का इलाज चल रहा है, जो कुल संक्रमित लोगों का केवल एक दशमलव सात-चार प्रतिशत है।


कल 14 हजार 256 लोगों में संक्रमण की पुष्टि हुई। इसके साथ ही कुल संक्रमित लोगों की संख्‍या एक करोड छह लाख 39 हजार से अधिक हो गई। कल 152 लोगों की मृत्‍यु हुई। अब तक कोविड से एक लाख 53 हजार एक सौ 84 लोगों की मृत्‍यु हो चुकी है।


भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद के अनुसार कल आठ लाख 37 हजार नमूनों की कोविड जांच की गई। अब तक 19  करोड़ 9 लाख से अधिक जांच की जा चुकी हैं।

------------------------

देश में सबसे अधिक टीकाकरण करने वाले राज्‍यों में कर्नाटक शीर्ष स्‍थान पर है। राज्य में कल तक एक लाख 82 हजार से अधिक अग्रिम पंक्ति के स्‍वास्‍थ्‍यकर्मियों को टीका लगाया गया। बेंगलुरु शहरी जिला स्वास्थ्य अधिकारी डॉक्‍टर श्रीनिवास ने कोविड टीका लगवाने के बाद हमारे संवाददाता से बातचीत में कहा कि कोविड का टीका पूरी तरह से सुरक्षित है।

------------------------

मध्‍य प्रदेश में कोविड पॉजिटिव मामलों की संख्‍या में कमी दर्ज की गई है।


प्रदेश में कल कोविड के 463 रोगी स्वस्थ हुए है। जबकि 4 मरीज़ों की मृत्यु हुई है। कोविड से मरने वालो की कुल संख्या 3 हज़ार 7 सौ 80 है । प्रदेश के 7 जिलों में एक भी कोविड पॉजिटिव मामला कल दर्ज नहीं किया गया है। अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य मोहम्मद सुलेमान ने बताया है कि अभी प्रदेश के 150 टीकाकरण केन्द्रों पर कोरोना वैक्सीन लगाया जा रहा है। आने वाले 2 सप्ताह में प्रदेश के 450 स्वास्थ्य केन्द्रों पर कोरोना टीकाकरण का कार्य प्रारंभ हो जाएगा। पूजा पी वर्धन, आकाशवाणी समाचार, भोपाल।

------------------------

महाराष्‍ट्र में कोविड की स्थिति में तेजी से सुधार को देखते हुए कक्षा पांच से आठ तक के सभी स्‍कूल 27 जनवरी से खोल दिए जायेंगे।


स्कूल शिक्षा विभाग के निर्देश संबंधित स्कूल प्रशासन के लिए बाध्यकारी होंगे।  पुणे में एक फरवरी से नगर निगम स्कूलों और सभी निजी स्कूलों के पांचवी से सातवी कक्षा तक के वर्ग शुरू होंगे। पुणे नगर निगम की अतिरिक्त आयुक्त रूबल अग्रवाल ने कहा कि सभी स्कूलों को छात्रों, शिक्षकों और गैर-शिक्षा कर्मचारियों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए निर्देशित किया गया है। हालांकि, बृहन्मुंबई नगर निगम ने कहा कि अगले नोटिस तक नगर निगम क्षेत्र के सभी स्कूल बंद रहेंगे। माधुरी पांगे, आकाशवाणी समाचार, मुंबई।

------------------------

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आज लखनऊ में हुनर हाट का उद्घाटन करते हुए कहा कि इस हाट ने राज्य में कौशल-हुनर को एक मंच प्रदान किया है। हमारे संवाददाता ने बताया है कि राज्य सरकार के सहयोग से केंद्रीय अल्पसंख्यक मामलों के मंत्रालय द्वारा इस हाट का आयोजन किया गया है जो 4 फरवरी तक चलेगा।


"राजधानी लखनऊ के अवध शिल्पग्राम में आयोजित हुनर हाट नामक इस मेले में कला व्यंजन और संस्कृति का अनूठा संगम है, जो आत्मनिर्भर भारत की थीम पर आधारित है। इस प्रदर्शनी में देशभर के विभिन्न कोनों से शिल्पियों और दस्तकारों द्वारा हस्त निर्मित वस्तुओं को सजाया गया है। यहां  एक जनपद एक उत्पाद ओ .डी.ओ.पी. प्रदर्शनी में राज्य के  सभी 75 जनपदों के परम्परागत हस्तशिल्पियों एवं कारीगरों को अपने अपने उत्पादों को प्रदर्शित करने का अवसर मिल रहा है। हुनर हाट में असम, केरल, महाराष्ट्र, गुजरात, पश्चिम बंगाल, मणिपुर, तेलंगाना, कर्नाटक, उड़ीसा, मध्य प्रदेश, राजस्थान, हरियाणा और पंजाब सहित 31 राज्यों  और केंद्र शासित  प्रदेशों से आए हुए हुनर के उस्ताद प्रतिभाग कर रहे हैं।  ‘हुनर हाट’ का उद्देश्य प्रतिभाशाली कलाकारों को प्लेटफार्म उपलब्ध कराना, भारतीय कारीगरों और शिल्पकारों के विश्वसनीय ब्राण्ड का निर्माण, भारतीय धरोहर को बढ़ावा देने वाले कारीगरों और  शिल्पकारों की उन्नति तथा उन्हें  सशक्त बनाते हुए उनको लघु उद्यमी के रूप में विकसित करना है। एमएस यादव, आकाशवाणी समाचार, लखनऊ।

------------------------

Live Twitter Feed

Listen News

Morning News 4 (Mar) Midday News 4 (Mar) Evening News 3 (Mar) Hourly 4 (Mar) (1910hrs)
समाचार प्रभात 4 (Mar) दोपहर समाचार 4 (Mar) समाचार संध्या 4 (Mar) प्रति घंटा समाचार 4 (Mar) (1900hrs)
Khabarnama (Mor) 4 (Mar) Khabrein(Day) 4 (Mar) Khabrein(Eve) 3 (Mar)
Aaj Savere 4 (Mar) Parikrama 4 (Mar)

Listen Programs

Market Mantra 4 (Mar) Samayki 1 (Jan) Sports Scan 4 (Mar) Spotlight/News Analysis 3 (Mar) Employment News 4 (Mar) रोजगार समाचार 4 (Mar) World News 3 (Mar) Samachar Darshan 22 (Mar) Radio Newsreel 21 (Mar)
    Public Speak

    Country wide 12 (Mar) Surkhiyon Mein 4 (Mar) Charcha Ka Vishai Ha 11 (Mar) Vaad-Samvaad 17 (Mar) Money Talk 17 (Mar) Current Affairs 6 (Mar) Sanskrit Saptahiki 27 (Feb) North East Diary 4 (Mar)